Menu Close

भ्रष्टाचार से लड़ने में हमेशा आत्म-प्रेरित थे एमएल मेहता

जयपुर। राजस्थान के पूर्व मुख्य सचिव स्वर्गीय एमएल मेहता की स्मृति में एचसीएम, रिपा जयपुर और एमएल मेहता फाउंडेशन द्वारा छठा एमएल मेहता मेमोरियल व्याख्यान सोमवार को संपन्न हुआ। कोरोना को देखते हुए व्याख्यान ऑनलाइन आयोजित किया गया। ऑनलाइन कार्यक्रम में केंद्र सरकार के अतिरिक्त सचिव और महानिदेशक श्रीनिवास ने “गुड गवर्नेंस प्रैक्टिसेस” पर व्याख्यान दिया। एमएल मेहता फाउंडेशन की मैनेजिंग ट्रस्टी डॉ. रश्मि जैन ने कहा कि दिवंगत एमएल मेहता भ्रष्टाचार से लड़ने में हमेशा आत्म-प्रेरित थे और हमेशा निरक्षरों के लिए अवसर पैदा करने के लिए प्रोत्साहित करते थे।

  • छठे एमएल मेहता व्याख्यान का हुआ आयोजन

आईआईएचएमआर के ट्रस्टी डॉ. अशोक अग्रवाल ने कहा, “स्वर्गीय श्री एमएल मेहता ने भ्रष्टाचार से लड़ने और हमेशा गरीबों की सेवा करने की दिशा में काम किया है। उन्होंने गुड गवर्नेंस मॉडल के माध्यम से कई उदाहरण स्थापित किए है जो 2020 में भी प्रासंगिक है। अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने केवल सुशासन के एजेंडे को बढ़ावा दिया।” केंद्र सरकार के अतिरिक्त सचिव और महानिदेशक, राष्ट्रीय सुशासन केंद्र श्रीनिवास ने कहा, ” एमएल मेहता के अधीन काम करना एक बहुत ही सकारात्मक अनुभव था। प्रमुख सचिव के कारण एक अधिकारी को भ्रष्टाचार से लड़ने में शक्ति मिलती थी। शासन की पारदर्शी और जवाबदेह प्रणालियों के लिए समर्थन उपलब्ध था। कई मायनों में 1994-97 राजस्थान की सिविल सेवा के लिए स्वर्णिम वर्ष थे।” कार्यक्रम में अरुण कुमार, अनिल कुमार, किशन लाल, राकेश मेहता, संदीप वर्मा और कमला मेहता ने भाग लिया।

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: