Menu Close

भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी और बीकानेर टेक्नीकल यूनिवर्सिटी के बीच एमओयू

जयपुर। भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी, जयपुर (बीएसडीयू) ने बीकानेर टेक्नीकल यूनिवर्सिटी, बीकानेर (बीटीयू) के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए। एमओयू के तहत दोनों विश्वविद्यालय एक्सचेंज प्रोग्राम, इंटर्नशिप के साथ-साथ स्कूल ऑफ एंटरप्रेन्योरशिप स्किल से दोनों विश्वविद्यालयों के छात्रों और कर्मचारियों के लिए अनुसंधान, विकास और नवाचार कार्यक्रम की राह खोलेंगे। एमओयू पर हस्ताक्षर करते समय बीएसडीयू के प्रो. चांसलर डॉ. सुरजीतसिंह पाब्ला, वाइस चांसलर डॉ. अचिंत्य चौधरी और स्कूल ऑफ एंटरप्रेन्योरशिप स्किल्स के प्रिंसीपल डॉ. रवि गोयल सहित बीटीयू के डीन प्रो. अजीत सिंह पूनिया मौजूद थे।
बीएसडीयू के प्रो. चांसलर डॉ. (ब्रिगेडियर) सुरजीतसिंह पाब्ला ने कहा, ‘‘यह बीटीयू और बीएसडीयू के छात्रों के लिए एक-दूसरे से सीखने-सिखाने का एक बड़ा अवसर है। हम बीटीयू के छात्रों और कर्मचारियों की मेजबानी करेंगे और बीएसडीयू में यहां के संसाधनों का उपयोग करके उन्हें अपने शोध को सीखने और आगे बढ़ाने में मदद करेंगे।” प्रो. एच.डी. चारण के निर्देशन में बीकानेर टेक्नीकल यूनिवर्सिटी बीकानेर, जोधपुर, जयपुर, सीकर, झुंझुनूं, अलवर और अजमेर संभाग के 36 विभिन्न इंजीनियरिंग कॉलेजों के उचित कार्य और संचालन के लिए जिम्मेदार है। कुल 36 कॉलेजों में से 4 कॉलेज राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज हैं और बाकी 32 निजी इंजीनियरिंग कॉलेज हैं। बीकानेर टेक्नीकल यूनिवर्सिटी  के वाइस चांसलर प्रो. एच. डी. चारण कहते हैं, ‘इस एमओयू से हमारे छात्रों को बीएसडीयू की स्विस ड्यूल एजुकेशन सिस्टम से सीखने में मदद मिलेगी। हम बीटीयू के छात्रों और स्टाॅफ को सीखने और बीएसडीयू में उपलब्ध संसाधनों का उपयोग करके अपना शोध करने के लिए भेजेंगे। बीटीयू के हमारे छात्र इंटर्नशिप प्राप्त करेंगे और हर क्षेत्र में अनुभव प्राप्त करने वाले उद्योगों में सीखते हैं।’ बीएसडीयू के वाइस चांसलर डॉ. अचिन्त्य चैधरी ने कहा, ‘हमारे छात्रों को कुछ समय के लिए किसी अन्य विश्वविद्यालय में जाने और अपनी तकनीकों को सीखने और बीटीयू की मदद से शोध में अधिक एक्सपोजर मिलेगा। बीएसडीयू इस साझेदारी से लाभान्वित होगा और विश्वविद्यालय के छात्रों और कर्मचारियों दोनों को अधिक एक्सपोजर और नए अवसर मिलने से लाभ होगा।’

Leave a Reply

%d bloggers like this: